Agnipath Scheme: विरोध – हंगामा के बीच अग्निपथ योजना में बड़ा बदलाव.

Agnipath Scheme: केंद्र सरकार के रक्षा मंत्रालय (Defence Ministry) ने अग्निपथ योजना को लेकर गुरुवार देर रात एक बड़ा बदलाव लिया है. रक्षा मंत्रालय ने अग्निपथ योजना (Agnipath Scheme) के तहत भर्ती होने के लिए अधिकतम आयु सीमा 23 साल तक कर दी है. जिसके तहत भर्ती के लिए अधिकतम आयुसीमा में दो साल की बढ़ोतरी की है.

हालांकि युवाओं को अधिकतम आयु सेवा में दो साल छूट का यह फायदा सिर्फ एक बार ही मिलेगा. यानी अग्निपथ योजना के तहत पहली बार आयोजित होने वाली भर्ती प्रकिया में 23 साल तक युवा प्रतिभाग कर सकेंगे.रक्षा मंत्रालय ने कोरोना की वजह से दो साल तक सेना भर्ती ना आयोजित होने के चलते आयु सीमा पार कर चुके युवाओं को अवसर देन के लिए यह फैसला लिया है.

रक्षा मंत्रालय द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक, अग्निपथ योजना की शुरुआत के समय सशस्त्र बलों में सभी नए रंगरूटों के लिए प्रवेश आयु साढ़े 17 साल से 21 साल साल निर्धारित की गई है। रक्षा मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘‘इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए कि पिछले दो वर्षों के दौरान भर्ती करना संभव नहीं हुआ, इसलिए सरकार ने फैसला किया है कि 2022 के लिए प्रस्तावित भर्ती प्रक्रिया के लिए एकबारगी (आयु सीमा में) छूट दी जाएगी।’’ उन्होंने कहा कि अग्निपथ योजना के तहत 2022 की भर्ती प्रक्रिया के लिए ऊपरी आयु सीमा को बढ़ाकर 23 वर्ष कर दिया गया है।

 

क्या है अग्निपथ भर्ती योजना: Agnipath Scheme

भारत सरकार ने मंगलवार को सेना, नौसेना और वायुसेना में सैनिकों की भर्ती के लिए एक नई ‘अग्निपथ योजना’ का ऐलान किया था। इसके तहत बढ़ते वेतन और पेंशन खर्च को कम करने के लिए संविदा के आधार पर अल्पकाल के लिए सैनिकों की भर्ती की जएगी, जिन्हें ‘अग्निवीर’ कहा जाएगा।

यह भी कहा गया कि सशस्त्र बल इस साल 46,000 ‘अग्निवर’ भर्ती करेंगे और चयन के लिए पात्र आयु 17.5 वर्ष से 21 वर्ष के बीच होगी जिसे अब पहले साल (2022) के लिए बदल दिया गया है। योजना के तहत भर्ती 90 दिनों के भीतर शुरू होने वाली है। रोजगार के पहले वर्ष में एक ‘अग्निवीर’ का मासिक वेतन 30,000 रुपये होगा, लेकिन हाथ में केवल 21,000 रुपये ही आएंगे। हर महीने 9,000 रुपये सरकार के समान योगदान वाले एक कोष में जाएंगे।

इसके बाद दूसरे, तीसरे और चौथे वर्ष में मासिक वेतन 33,000 रुपये, 36,500 रुपये और 40,000 रुपये होगा। प्रत्येक ‘अग्निवीर’ को ‘सेवा निधि पैकेज’ के रूप में 11.71 लाख रुपये की राशि मिलेगी और इस पर आयकर से छूट मिलेगी। ग्रेच्युटी और पेंशन लाभ के लिए कोई अधिकार नहीं होगा।

Leave a Reply