Har Ghar Tiranga Abhiyan: रेल कर्मियों के वेतन से तिरंगा खरीदने के लिए काटेंगे 38 रुपये.

हर घर झंडा अभियान के तहत सभी रेलकर्मियों को रेलवे की ओर से दिए जाने वाले तिरंगे की कीमत उनके वेतन से वसूली जाएगी। प्रति झंडा 38 रुपये की कटौती रेलकर्मी के वेतन से होगी। हालांकि यह आदेश यूनियन नेताओं को पसंद नहीं आ रहा है और उन्होंने इसका कड़ा विरोध किया है।

हर घर तिरंगा अभियान के तहत कर्मचारी लाभ कोष से रेलवे खरीदा रहा तिरंगा:

आजादी के अमृत महोत्सव के क्रम में हर घर तिरंगा योजना का क्रियान्वयन 13 से 15 अगस्त तक होगा। इस दौरान हर रेलकर्मी अपने घरों पर तिरंगा फहराएंगे। यह तिरंगा उन्हें रेलवे की ओर से दिया जाएगा। जिसकी एवज में प्रति झंडा 38 रुपये कीमत तय की गई है। रेलकर्मियों को नगद पैसे देकर झंडा नहीं लेना होगा, बल्कि उनके वेतन से इसका मूल्य काटा लिया जाएगा। झंडा एक निजी एजेंसी द्वारा उपलब्ध कराया जाएगा।

तिरंगे की खरीदारी स्टाफ बेनीफिट फंड (कर्मचारी लाभ कोष) से की जानी है और बाद में रेलकर्मियों के खाते से काटे गए पैसे कर्मचारी लाभ कोष में ही भेजा जाना है।

स्टाफ बेनीफिट फंड से झंडा खरीदा जाए लेकिन, वेतन से पैसे ना काट जाए:

नार्थ सेंट्रल रेलवे इंप्लाइज संघ के मंडल मंत्री चंदन सिंह ने कहा कि रेलकर्मी खुद राष्ट्रभक्त हैं और अपने पैसे से स्वयं तिरंगा खरीदेंगे। उन पर यह नियम न थोपा जाए। जोनल महामंत्री आरपी सिंह ने कहा कि स्टाफ बेनीफिट फंड से झंडा खरीदा जाए लेकिन, वेतन से पैसे ना काट जाए।

Leave a Reply