Sahara India Refund: सहारा में फंसे पैसों की वापसी के ल‍िए क‍िया जाएगा यह काम.

Sahara India Refund: एक तरफ जहा सहारा इंडिया Sahara India Refund में फंसे पैसे को लेकर एक बार फिर लोगों का सब्र अब टूटने लगा है। बीते दिनों उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हजारों की संख्या में लोगों ने सहारा प्रमुख सुब्रत राय के खिलाफ जमकर हंगामा किया। सहारा के एजेंट एवं निवेशकों ने रमाबाई अंबेडकर पार्क में जोरदार प्रदर्शन कर उनकी गिरफ्तारी की मांग की। साथ ही अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे। एक निवेशक ने बताया कि सहारा इंडिया परिवार ने देश के गरीब का गरीब के खून पसीने की कमाई को दबा कर रखा है। जिसके कारण कई लोग आत्महत्या जैसी घटनाओं को अंजाम दे चुके हैं। कोई जहर खा चुका है, कोई फांसी पर लटक चुका है।

 

Sahara India Refund: देश की सबसे बड़ी कंपनियों में शुमार रही सहारा इंडिया Sahara India Helpline में देश के करोड़ों लोगो ने निवेश किया था, परन्तु कंपनी के कामकाज में पारदर्शिता ना होने और वित्तीय अनियमितता के कारण लोगो के पैसे फँस गए हैं. सहारा इंड‍िया (Sahara India) में लाखों लोगों के पैसे फंसे हुए हैं. सरकार भी न‍िवेशकों का पैसा वापस द‍िलाने के ल‍िए प्रयासरत है. सहारा इंड‍िया की तरफ से दी गई सफाई में कहा गया क‍ि उसने न‍िवेशकों की 25 हजार करोड़ की रकम भारतीय प्रतिभूति एवं विनियम बोर्ड (SEBI) के पास जमा कर दी है.

 

निवेशकों और कर्मचारियों ने न‍िकाला मार्च: Sahara India Refund

सेबी (SEBI) की तरफ से सहारा के 25 हजार करोड़ रुपये रोके जाने के विरोध में सहारा इंडिया परिवार (Sahara India Pariwar) के निवेशकों और कर्मचारियों सहित बड़ी संख्या में लोगों ने जयपुर में मार्च निकाला और विरोध-प्रदर्शन किया. यह नाराजगी न‍िवेशकों और कर्मचार‍ियों में सेबी के खिलाफ थी. एक बयान के अनुसार, भाजपा सांसद डॉ. किरोड़ी लाल मीणा के नेतृत्व में प्रदर्शनकारियों ने बस्सी चौक से सेबी के क्षेत्रीय कार्यालय तक मार्च न‍िकाला और तत्काल कार्रवाई के लिये सेबी के अधिकारी को ज्ञापन सौंपा.

 

9 साल में 125 करोड़ वापस लौटाये: Sahara India Refund

ज्ञापन के अनुसार, सहारा इंडिया (Sahara India) ने अपने निवेशकों को रकम लौटाने के लिए ब्याज सहित 25 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा राशि सेबी (SEBI) के पास जमा करा दी है. लोकसभा में सेबी ने भी यह स्वीकार किया है कि उसने क्षेत्रीय और राष्ट्रीय समाचार पत्रों में चार बार विज्ञापन के जरिये इसके बारे में सूचित किया है और पिछले 9 साल में 125 करोड़ रुपये निवेशकों को वापस लौटाये हैं.

 

‘मामले को विभिन्न स्तरों पर उठाया जाएगा’: Sahara India Refund

डॉ मीणा ने कहा, ‘सेबी ने सहारा का 25 हजार करोड़ रुपये रोक रखा है और पिछले 9 साल में कुछ भी नहीं किया है. यह अप्रयुक्त धनराशि केवल करोड़ों निवेशकों को उनकी मेहनत की कमाई से वंचित कर रही है बल्कि सहारा के 14 लाख कर्मचारियों को भी नुकसान पहुंचा रही है.’ उन्होंने कहा कि यदि सेबी मामले को सुलझाने के लिये तुरंत कार्रवाई नहीं करता है तो मुद्दे को सरकार के विभिन्न स्तरों पर उठाया जाएगा. उन्होंने कहा, ‘मैं इस मामले को वित्त मंत्री और प्रधानमंत्री के समक्ष उठाऊंगा.’

 

ट्रेस नहीं हो पा रहा निवेशकों का डाटा: Sahara India Refund

गौरतलब है इससे पहले सहारा इंड‍िया ने व‍िभ‍िन्‍न समाचार पत्रों में व‍िज्ञापन के जर‍िये अपनी बात कही थी. इस व‍िज्ञापन में सहारा (Sahara) ने सेबी (SEBI) पर निवेशकों के 25,000 करोड़ रुपये रखने का आरोप लगाया था. सहारा ने पत्र में ल‍िखा था क‍ि वह (सहारा) भी सेबी से पीड़ित है. हमसे दौड़ने के ल‍िए कहा जाता है लेक‍िन हमें बेड़ियों में जकड़ कर रखा गया है. सेबी (SEBI) की तरफ से भी बताया गया था क‍ि दस्तावेजों और र‍िकॉर्ड में निवेशकों का डाटा ट्रेस नहीं हो पा रहा है.

Leave a Reply