Indian Railways: रेल मंत्री का बड़ा ऐलान, ट्रेन टिकट में महिलाओं को मिलेगी बम्पर फायदा.

Indian Railways: ट्रेन से यात्रा करने वाली महिला यात्रियों के लिए खुशखबरी. अब उन्हें सीट के लिए परेशान नहीं होना होगा क्योंकि रेलवे ने महिला यात्रियों के लिए बड़ी घोषणा की है. नई घोषणा के तहत अब लंबी दूरी की ट्रेनों में महिला यात्रियों के लिए सीट रिजर्व होगी।

इसके साथ ही इस माह के अंत तक महिला यात्रियों की सुरक्षा के लिए भी प्लान तैयार किया जा रहा है। केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने बताया कि लंबी दूरी की ट्रेनों में महिलाओं की आरामदायक यात्रा के लिए भारतीय रेलवे ने रिजर्व बर्थ निर्धारित करने की कई सारी सुविधाएं शुरू की है। नई घोषणा के अनुसार बस और मेट्रो ट्रेन की तरह भारतीय रेलवे भी महिलाओं के लिए सीट आरक्षित करेगा।

Indian Railways महिलाओं के लिए सीट रिजर्व :

रेलवे (Indian Railways) की तरफ से अब लंबी दूरी की ट्रेन में महिलाओं के लिए सीट रिजर्व (Special Berths for Female Passengers in Trains) की गई है. इसके अलावा महिलाओं की सुरक्षा के लिए प्लान भी तैयार क‍िया जा रहा है. रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव (Ashwini Vaishnaw) ने कहा कि ट्रेनों में महिलाओं की सहूल‍ियत के ल‍िए भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने रिजर्व बर्थ न‍िर्धार‍ित करने समेत कई सुविधाएं शुरू की हैं.

Indian Railways स्लीपर क्लास में छह बर्थ आरक्षित :

रेल मंत्री ने कहा कि मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों (Mail and Express Trains) में मह‍िलाओं के ल‍िए स्लीपर क्लास में छह बर्थ आरक्षित रहेंगी. राजधानी एक्‍सप्रेस (Rajdhani), गरीब रथ (Garib Rath) और दूरंतो समेत पूरी तरह से वातानुकूलित एक्सप्रेस ट्रेनों की थर्ड एसी (3AC class) में छह बर्थ महिलाओं के लिए आरक्षित की गई हैं.

ट्रेन के प्रत्‍येक स्लीपर कोच (Sleeper Class) में छह लोअर बर्थ (Lower Berths), 3 टियर एसी कोच में चार से पांच लोअर बर्थ और 2 टियर एसी में तीन से चार लोअर बर्थ सीन‍ियर स‍िटीजन, 45 वर्ष या इससे ज्‍यादा उम्र की महिलाओं और गर्भवती महिलाओं (Pregnant Women) के लिए आरक्षित की गई हैं.

अश्‍व‍िनी वैष्‍णव ने कहा क‍ि महिला यात्रियों की सुरक्षा के लिए भी विशेष इंतजाम किए गए हैं. रेलवे सुरक्षा बल (RPF) जीआरपी और जिला पुलिस यात्रियों को सुरक्षा मुहैया कराएगी. इसके अलाावा रेलगाड़ियों और स्टेशनों पर महिलाओं समेत अन्‍य यात्रियों के लिए भी जीआरपी (GRP) की मदद कदम उठाए जा रहे हैं.