Bhagya Laxmi Yojana: बेटियों के बैंक खाते में सरकार भेजेंगी 50,000 रुपए, यहाँ भरें फॉर्म.

Bhagya Laxmi Yojana: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार बेटियों के लिए एक खास स्कीम लेकर आई है. इस योजना के तहत बेटी के जन्म पर माता-पिता को आर्थिक मदद के साथ-साथ बेटी की पढ़ाई के दौरान भी उसकी मदद की जाती है. सरकार बेटियों के लिए एक खास स्कीम लेकर आई है. जिससे जुड़ककर आप बिल्कुल फ्री में 50,000 रुपए पा सकते हैं.

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Up government)ने भाग्य लक्ष्मी योजना (bhagya laxmi yojana)के नाम से राज्य में स्कीम चलाई थी. जिसका उद्देश्य राज्य में लिंगानुपात का सामान्य करना था. यही नहीं सरकार 50 हजार के रुपए के अलावा बेटी की पढ़ाई-लिखाई के खर्च (education expenses) की भी जिम्मेदारी लेती है. यदि आप भी स्कीम का लाभ लेना चाहते हैं तो सरकार के कुछ नियम फॅालो करने होंगे, जिसके बाद बेटी के अकाउंट में 50 हजार रुपए तुरंत ही ट्रांसफर कर दिये जाएंगे.

यूपी सरकार ने प्रारंभ की ये योजना: Bhagya Laxmi Yojana

उत्तर प्रदेश सरकार ने बेटियों के लिए ऐसी योजना शुरू की है, जो पैदा होते ही सक्रिय हो जाती है और 21 साल की उम्र में परिपक्व हो जाती है. वहीं, सरकार बेटी की पढ़ाई का खर्च भी देती है. बेटी के पैदा होते ही मां को बेटी के लिए सरकार की तरफ से अलग से 5,100 रुपये दिए जाते हैं. ताकि शुरुआती पालन-पोषण में कोई दिक्कत न हो. कुछ ऐसा है उत्तर प्रदेश सरकार की भाग्यलक्ष्मी योजना. यह योजना गरीबी रेखा से नीचे यानी बीपीएल कार्ड धारकों को ही दी जाती है.

 

भाग्य लक्ष्मी योजना क्या है ? Bhagya Laxmi Yojana

भाग्य लक्ष्मी योजना का लाभ गरीबी रेखा के नीचे यानी बीपीएल कार्ड धारकों को ही दिया जाता है. बेटी के जन्म से ही ये योजना एक्टिव हो जाती है और 21 साल की उम्र में मेच्योर हो जाती है. सबसे पहले बेटी के जन्म लेते ही मां को बेटी के लिए 5100 रुपए दिए जाते हैं, ताकि परवरिश में किसी तरह की दिक्कत ना हो. इसके साथ ही बीच-बीच में सरकार बेटी को पढ़ाई के लिए भी पैसे देती रहती है.

 

ये है रजिस्ट्रेशन से जुड़ने का तरीका: Bhagya Laxmi Yojana

  • इस योजना में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए आपको किसी नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर सेंटर यानी ई-मित्र सेंटर में जाना होगा. खास बात ये है कि इस योजना के लिए रजिस्ट्रेशन भी बिल्कुल फ्री है. भाग्य लक्ष्मी योजना के लिए किन दस्तावेजों की होगी जरूरत ?
  • इसके लिए आपके पास यूपी का निवास प्रमाण पत्र, बेटी का जन्म प्रमाण पत्र, माता-पिता का आधार कार्ड, आय प्रमाण पत्र, घर के पते का प्रूफ, बैंक अकाउंट डिटेल्स होना जरूरी है.

 

ये रहेगा पैसे आने का शैड्यूल: Bhagya Laxmi Yojana

  • बेटी के जन्म पर सरकार 50,000 रुपए का बांड देती है. ये बांड 21 साल बाद मेच्योर होकर 2 लाख का हो जाता है.
  • इसके अलावा बेटी की जन्म के समय उसकी परवरिश के लिए मां को 5100 रुपए अलग से दिए जाते हैं. बेटी के कक्षा 6 में आने पर उसके खाते में 3,000 रुपए डाले जाते हैं. कक्षा 8 में पहुंचने पर 5,000 रुपए का फायदा दिया जाता है. कक्षा 10 में पहुंचने पर बेटी के खाते में 7,000 रुपए डाले जाते हैं. कक्षा 12वीं में आने पर 8,000 रुपए का योगदान सरकार की ओर से दिया जाता है.

 

जानिए- किस तरह से आपको मिलता है धन का लाभ: Bhagya Laxmi Yojana

  • बेटी के जन्म पर यूपी सरकार 50 हजार रुपये का बांड देती है.
  • यह बॉन्ड 21 साल बाद मैच्योर होता है और 2 लाख रुपये मिलते हैं, जो बेटी के काम आता है.
  • बेटी के जल्दी पालन-पोषण और स्वास्थ्य की देखभाल के लिए जन्म के समय उसकी मां को अलग से 5100 रुपये दिए जाते हैं.
  • जब वह कक्षा 6 में प्रवेश करती है तो उसके खाते में 3,000 रुपये जुड़ जाते हैं.
  • कक्षा 8 में पहुंचने पर 5,000 रुपये का लाभ दिया जाता है.
  • दसवीं कक्षा में पहुंचने पर बेटी के खाते में सात हजार रुपये जमा हो जाते हैं.
  • 12वीं कक्षा में आने पर सरकार द्वारा 8,000 रुपये का योगदान दिया जाता है.
  • पढ़ाई के दौरान बेटी के खाते में 23 हजार रुपये जमा किए जाते हैं.

 

इन शर्तों का करना होगा पालन: Bhagya Laxmi Yojana

  • यह लाभ उन बेटियों को मिलेगा, जिनका जन्म 2006 के बाद हुआ है.
  • बेटी के जन्म के एक माह के भीतर भी आंगनबाडी केंद्र में पंजीयन कराना अनिवार्य है.
  • योजना का लाभ लेने के लिए बेटी की शादी 18 साल से पहले नहीं की जा सकती है.
  • बेटी की शिक्षा सरकारी योजना में होनी चाहिए, न कि निजी स्कूल में.
  • लाभार्थी का यूपी का निवासी होना अनिवार्य है.
  • इस योजना का लाभ केवल बीपीएल परिवार की बेटियों को ही दिया जाएगा.
  • परिवार की आय दो लाख प्रति वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए.
  • अगर आप सरकारी कर्मचारी हैं तो आप इस योजना का लाभ नहीं उठा पाएंगे.
  • इस तरह, भाग्यलक्ष्मी योजना में रजिस्ट्रेशन के लिए आपको नजदीकी कॉमन सर्विस सेंटर यानि ई-मित्र केंद्र पर जाना होगा. जिसमें आपको कोई रजिस्ट्रेशन फीस नहीं देनी होती है. रजिस्ट्रेशन फ्री में किया जाता है. अगर हम दस्तावेजों की बात करें, तो रजिस्ट्रेशन के लिए आपके पास यूपी का निवास प्रमाण पत्र, बालिका का जन्म प्रमाण पत्र, माता-पिता का आधार कार्ड, आय प्रमाण पत्र, घर के पते का प्रमाण, बैंक खाते का विवरण होना चाहिए.

Leave a Reply