PM Kisan Yojana: पीएम किसान सम्मान निधि में बदलाव, किसान अब घर बैठे निकाल सकेंगे किस्त की राशि.

PM Kisan Yojana : पीएम किसान सम्मान निधि योजना किसानों के बीच सबसे अधिक लोकप्रिय सरकारी योजना है। इस योजना की खास बात ये हैं कि इसमें मिलने वाली आर्थिक सहायता की राशि सीधा किसानों के खाते में ट्रांसफर की जाती है। पीएम किसान सम्मान निधि योजना में एक नई अपडेट निकल कर सामने आ रही है। मिडिया रिपोर्ट्स के अनुसार किसान अब घर बैठे पीएम किसान सम्मान निधि की राशि निकाल सकेंगे। इसके लिए उन्हें बैंक जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। दरअसल डाकघर एक खास अभियान शुरू करने जा रहा है जिसका नाम आपका बैंक आपके द्वार है। इस अभियान के माध्यम से डाकघर का प्रतिनिधि आपके पास आएगा यानि आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं है। आपका पीएम किसान सम्मान निधि का पैसा आप घर बैठे प्राप्त कर सकेंगे।

क्या है डाकघर का आपका बैंक आपके द्वार अभियान :

डाकघर की ओर से आपका बैंक आपके द्वार अभियान शुरू किया जा रहा है। इस अभियान की खास बात ये हैं कि आपका बैंक, आपके द्वार की तर्ज पर डाक विभाग इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के माध्यम से घर बैठे लोगों को खातों से यह राशि निकालने की सुविधा दे रहा है। इसके तहत आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम (ए.ई.पी.एस) द्वारा बैंक खातों से भुगतान की सुविधा घर बैठे डाकिया द्वारा प्राप्त हो सकेगी। वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल कृष्ण कुमार यादव ने सभी मंडलाध्यक्षों और इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के शाखा प्रबंधकों को इसके लिए व्यापक रूप से सघन अभियान चलाने हेतु निर्देशित किया है।

13 जून तक चलेगा अभियान :

यूपी के वाराणासी में इस अभियान की शुरूआत कर दी गई है। ये अभियान 13 जून 2022 तक चलेगा। इस अभियान के तहत डाकियों के पास माइक्रो एटीएम उपलब्ध होगा जिसके माध्यम से प्रतिदिन एक व्यक्ति द्वारा 10 हजार रुपए की राशि निकाली जा सकेगी। प्रवर अधीक्षक डाकघर वाराणसी राजन ने बताया कि चन्दौली में अभी तक करीब 1.5 लाख लोगों ने घर बैठे विभिन्न बैंकों के अपने खातों से 47 करोड़ रुपए की राशि डाक विभाग के माध्यम से निकाली है।

पीएम किसान योजना से जुड़े हुए है 12 करोड़ से अधिक किसान (PM Kisan Yojana) :

पीएम किसान सम्मान निधि योजना से देश के करीब 12.50 करोड़ किसान जुड़े हुए हैं। अभी तक इसकी 11 किस्तें किसानों को मिली है। बीते 31 मई को पीएम मोदी ने इस योजना की 11वीं किस्त किसानों के खाते में डीबीटी के माध्यम से सीधा किसानों के खाते में ट्रांसफर की थी। बता दें कि पीएम किसान योजना के तहत किसानों को पीएम किसान सम्मान निधि योजना की राशि किसानों के खाते में ट्रांसफर की जाती है। इसके तहत किसानों को प्रति वर्ष हर चार माह के अंतराल में 2-2 हजार रुपए की तीन किस्तें किसानों के खाते में ट्रांसफर की जाती है। इस तरह किसानों को एक साल में कुल 6 हजार रुपए की राशि प्रदान की जाती है। ये केंद्र सरकार द्वारा संचालित योजना है जिसका किसानों को लाभ मिल रहा है।

किसान घर बैठे मोबाइल से भी कर सकते हैं योजना के लिए रजिस्ट्रेशन :

जिन किसानों को अब तक पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ नहीं मिला है और वे इस योजना का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं तो उन्हें ऑनलाइन आवेदन करना होता है। ये आवेदन आप पीएम किसान योजना की वेबसाइट पर जाकर कर सकते हैं। यदि आप मोबाइल के माध्यम से इस योजना में रजिस्ट्रेशन करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको सबसे पहले आपको अपने मोबाइल के Google Play Store में जाकर PM Kisan GoI Mobile App डाउनलोड करना होगा। इसके बाद नीचे दी गई प्रक्रिया के अनुसार आप इसमें आसानी से रजिस्ट्रेशन कर पाएंगे।

  • ऐप को डाउनलोड करने के बाद इसे ओपन करें और फार्मर कार्नर पर न्यू रजिस्ट्रेशन पर क्लिक करें।
  • अब आधार नंबर डालकर अपना राज्य चुनें।
  • इसके बाद इमेज कोड यानि कैप्चा कोड डालें।
  • अब खुले हुए फार्म में अपना नाम, पता, बैंक खाता विवरण और आईएफएससी कोड भरें।
  • इसके बाद आपको जमीन का खाता यानि खसरा नंबर डालना होगा। सभी सूचनाएं भरने के बाद अब सबमिट करें पर क्लिक कर दें।
  • इस तरह मोबाइल से घर बैठे इस योजना में रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

किसानों को करना होगा ई-केवाईसी :

पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ लेने वाले किसानों को ई-केवाईसी करना अनिवार्य कर दिया है। अभी तक आधे किसानों ने ही ई-केवाईसी की प्रक्रिया पूरी की है। इससे अभी बड़ी संख्या में ऐसे किसान रह गए हैं जिन्होंने ई-केवाईसी नहीं कराई है। बता दें कि उत्तरप्रदेश और बिहार में बड़ी संख्या में फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद सरकार ने इस योजना के लिए ई-केवाईसी कराना अनिवार्य कर दिया है। इससे सही किसान की पहचान हो सकेगी और फर्जी किसानों को इस योजना से बाहर किया जा सकेगा।

एक बार फिर बढ़ाई ई-केवाईसी की अंतिम तिथि :

देश के 12.30 करोड़ किसानों को पीएम किसान सम्मान निधि योजना से जुड़े हुए हैं। ये केंद्र सरकार की महत्वकांशी योजना है जिसका उद्देश्य इस योजना के माध्यम से किसानों की आर्थिक रूप से मदद करना है। अभी तक आधे किसानों ने ही ई-केवाईसी कराई है। इसे देखते हुए सरकार ने ई-केवाईसी की अंतिम तिथि को 31 मई 2022 से बढ़ाकर 31 जुलाई 2022 कर दिया है। बता दें कि ई-केवाईसी की अंतिम तिथि पहले 31 मार्च 2022 थी। इसके बाद इसे बढ़ाकर 31 मई 2022 किया गया है और अब इसे बढ़ाकर 31 जुलाई 2022 कर दिया गया है।

Leave a Reply